उसने मांगी थी हमसे

[wp_ad_camp_1]दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते!
गम के आंसू न बहते तो और क्या करते!
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ!
हम खुद को न जलाते तो और क्या करते!

dard se haath na milaate to aur kya karate!
gam ke aansoo na bahate to aur kya karate!
usane maangee thee hamase raushanee kee dua!
ham khud ko na jalaate to aur kya karate!

admin

Related Posts

Love shayri mostly

Propose Shayari | तेरा वहम है की

ख्याल  भी  नही  आया …!!💞

उसे🤵🏻कभी 😟 भी रुलाना नहीं….💕❤

No Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *