कौन चाहता है अपनों से दूर

[wp_ad_camp_1]वक़्त नूर को बेनूर बना देता है!
छोटे से जख्म को नासूर बना देता है!
कौन चाहता है अपनों से दूर रहना पर
वक़्त सबको मजबूर बना देता है!

vaqt noor ko benoor bana deta hai!
chhote se jakhm ko naasoor bana deta hai!
kaun chaahata hai apanon se door rahana par
vaqt sabako majaboor bana deta hai!

admin

Related Posts

Love shayri mostly

Propose Shayari | तेरा वहम है की

ख्याल  भी  नही  आया …!!💞

उसे🤵🏻कभी 😟 भी रुलाना नहीं….💕❤

No Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *