सामने ना हो तो तरसती हैं

सामने ना हो तो तरसती हैं

Samne Na Ho To Tarasti Hain Aankhein,
Yaad Me Teri Barsti Hain Aankhein,
Mere Liye Nahin Inke Liye Hi Aa Jaao,
Apka Bepanah Intezar Karti Hain Aankhein.

सामने ना हो तो तरसती हैं आँखें,
याद में तेरी बरसती हैं आँखें,
मेरे लिए नहीं इनके लिए ही आ जाओ,
आपका बेपनाह इंतज़ार करती हैं आँखें।

Shor Na Kar Dhadkan Jara, Tham Ja Kuch Pal Ke Liye,
Badi Mushkil Se Meri Aankhon Me Uska Khwab Aaya Hai.

शोर न कर धड़कन ज़रा, थम जा कुछ पल के लिए,
बड़ी मुश्किल से मेरी आखों में उसका ख्वाब आया है।
 

Yogesh

Related Posts

बहुत खूबसूरत हैं ये आँखें तुम्हारी

बहुत खूबसूरत हैं ये आँखें तुम्हारी

Ab Tamnna Hui Hai Fir Se Ab Jeene Ki अब तम्मना हुई है फिर से जीने की हमें

Ab Tamnna Hui Hai Fir Se Ab Jeene Ki अब तम्मना हुई है फिर से जीने की हमें

2 Line shayri | अपने प्यार पर नाज हुआ करता है! | JioDilSe

2 Line shayri | अपने प्यार पर नाज हुआ करता है! | JioDilSe

Love shayri

No Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *