2 Line Shayri हम ख़ुद निशां बन गये

2 Line Shayri हम ख़ुद निशां बन गये

“udaas nahin hona, kyonki mae sath hoon,
saamane na sahee par aas-paas hoon,
palko ko band kar jab bhee dil mein dekhoge,
main har pal tumhaare saath hoon!”

“उदास नहीं होना, क्योंकि मैं साथ हूँ,
सामने न सही पर आस-पास हूँ,
पल्को को बंद कर जब भी दिल में देखोगे,
मैं हर पल तुम्हारे साथ हूँ!”
“kisee kee jindagee sirph  do vajah se badalatee hai,
ek koee bahut khaas insaan usakee jindagee mein aa jaaye, 
doosara koee bahut khaas insaan usakee jindagee se chala jaaye.”

“किसी की जिंदगी सिर्फ  दो वजह से बदलती है, 
एक कोई बहुत खास इंसान उसकी जिंदगी में आ जाये, 
दूसरा कोई बहुत खास इंसान उसकी जिंदगी से चला जाये।”

जख़्म इतना गहरा हैं इज़हार क्या करें।
हम ख़ुद निशां बन गये ओरो का क्या करें।
मर गए हम मगर खुली रही आँखे हमरी।
क्योंकि हमारी आँखों को उनका इंतेज़ार हैं।

Jakhm Itna Gehra Hai Izhaar Kya Kare.
Ham Khud Nishan Ban Gy Oro Ka Kya Kare.
Mar Gy Ham Magar Khuli Rahi Akhein.
Kyuki Hamari Akhon Ko Unka Intezar Hai.


Yogesh

Related Posts

Love shayri mostly

ख्याल  भी  नही  आया …!!💞

लड़कियों की सूरत के अलावा इन अदाओं पर लड़के छिड़कते है अपनी जान

उसे🤵🏻कभी 😟 भी रुलाना नहीं….💕❤

No Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *